Biowikivilla.In

Biowikivilla.in

स्कूल और कॉलेज की जीवन शैली की समस्याओं से कैसे निपटें. problems in school & college life in Hindi

Spread the love

हर किसिके लाइफ में समस्या आते रहते हैं लेकिन हमें अगर पहले सभी समस्याएं के बारे में थोड़ा पता चल जाए तो हम आराम से समस्या से बहार निकल सक्ते है. हर कोई स्कूल और कॉलेज लाइफस्टाइल से वाकिफ होगा और सबको पत्ता होगा की उन दिनों में कितनी समस्याएं और ना जाने कितनी स्थितियों का सामना करना पड़ा था और तब हम पूरी तरह से तयर नहीं थे.

अगर उस वक्त कोई हमें कुछ ज्ञान दे देता तो सायेद आज हम और कहां होते, ये ख्याल कितने बार हर किसके दिमाग में आया होगा. आज हम आपके साथ स्कूल और कॉलेज की जीवन शैली से जुड़े कितने समस्याएं, परिस्थितियों के बारे में चर्चा करेंगे जिसे आप किसी स्कूल और कॉलेज जाने वाले छात्रों को पहले बताओगे तो सायेद वो हम से अच्छा लाइफस्टाइल जी पाए अपने कॉलेज के समय में.

स्कूल और कॉलेज की जीवन शैली

Contents

हर कोई अपनी प्राथमिक शिक्षा एक ऐसे स्कूल से लेता है जहाँ हम मासूम थे, लाचार, साधारण थे,जहान हमें कोई अच्छे से जान पाता था या फिर कोई हमें खुद को अच्छा साबित करने को मौका देता था. तबी हमारे दिमाग में किसके लिए न प्यार था न नफरत था, बस इंतजार था स्कूल की घंटी बजने की, कब घंटा बजे और मैं घर केलिए निकलु.

तबी दिमाग में डर था शिक्षक और माता-पिता को लेकर, स्कूल नहीं गया तो माता-पिता का मांड और स्कूल गया और होमवर्क नहीं किया तो शिक्षक का माड. मैं छोटा बच्चा था लेकिन जिंदगी पूरे दबाव में गुजर जाती थी। किसको अपना दुख दर्द बताता नहीं था और जिसको बताता को कोशिश किया वो बोले ये तुम्हारा काम है, क्या बताऊं दोस्तो मुझे लगता है हर किसिका स्कूल लाइफ मेरे जैसा होगा।

छात्रों के जीवन में क्या होता है

स्कूली जीवन वह जीवन है जहां सभी समस्याएं स्कूल के समय से शुरू होती हैं और शाम 4 बजे स्कूल समाप्त होने पर समाप्त होती हैं और कुछ समस्याएं भी रह जाती हैं जब हम शिक्षकों से कुछ गृहकार्य लेते हैं। स्कूल से आने के बाद मैं अतिरिक्त पढ़ाई के लिए जाता था और ट्यूशन जाता था क्योंकि मेरे माता-पिता ने मुझसे कहा था कि अगर तुम अच्छी तरह से पढ़ोगे तो मैट्रिक में अच्छा प्रतिशत मिलेगा और तुम्हारा जीवन खुशियों से भरा होगा।

वो खुशी केलिये जो कभी मेंने नहीं देखा और नहीं जाना था उसके पीछे स्कूल लाइफ को घिसे पिटे पार करलिया, बहुत मेहनत लगा था यार, कास तुम समझ पाओ मेरे दुख दर्द और दबाव जो स्कूल के समय में होता था.

स्कूली जीवन में क्या ख्याल आता है

जब हम नियमित स्कूल जाते हैं और स्कूल के बाद फिर से अतिरिक्त अध्ययन के लिए ट्यूशन लेते हैं, तो ऐसा लगता है कि जीवन में पूरा अनुशासन चल रहा है, इतनी मेहनत, इतना समय पढाई में दे रहा हूं, भविष्य में कुछ मेरा अलग होगा।

इस ख्याल में हम अपना पुरा बचपन को स्कूल के जीवन में खर्च कर देते थे. पर एक बात तो जरूर है, पढाई में हम अच्छे होते हैं पर स्मार्ट तो लडकियां ही होते थे. कभी कभी स्कूल में लड़कों और लड़कियों के बीच प्रतियोगिता चलता था पढाई को लेकर तो कभी थोड़ा थोड़ा किसके ऊपर क्रश हुआ करता था, पर जो भी हो वो दिन क्या अच्छे दिन थे.

कक्षा में छात्रों द्वारा सामना की जाने वाली समस्याएं

हर बच्चा अपने स्कूल लाइफ में पढाई का प्रेशर और प्रेंट्स का प्रेशर के बिच रहता है, भले ही वो उसके लिए अच्छा हो पर तब वो उसे समझ नहीं आता है. कक्षा में कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं जैसे बुरे छात्रों से निपटना, जो सभी छात्रों को परेशान करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं, गृहकार्य तनाव, रोजाना अपने सबसे अच्छे दोस्त के साथ बैठने की लढाई.

स्कूल में समस्याओं की सूची

स्कूली छात्रों के जीवन में उत्पन्न होने वाली कई समस्याएं नीचे दी गई हैं।

  • साफ-सुथरी यूनिफॉर्म के साथ रोजाना स्कूल जाना।
  • प्रतिदिन स्कूल का होमवर्क समय के भीतर करना और शिक्षक को जमा करना
  • हर कक्षा में एक बदमाश से निपटना
  • अन्य छात्रों के साथ गृहकार्य और पाठ्येतर गतिविधियों में प्रतिस्पर्धा
  • अपने गुसा और नफरत को कंट्रोल करके रखना

स्कूलों में समस्याएं और समाधान

एक छात्र के रूप में जब हम कुछ समस्याओं का सामना करते हैं तो उन्हें व्यक्तिगत रूप से निपटने के बजाय शिक्षकों या प्रधानाचार्यों के साथ साझा करना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, अपने माता-पिता के साथ मामले को साझा करने का प्रयास करें, हमारे माता-पिता से बेहतर सलाह लें, और परिपक्व होने का मौका पाएं।

नियमित रूप से स्कूल जाने की कोशिश करें और समय के भीतर स्कूल का काम जमा करें जो न केवल हमें अच्छे छात्र बनाता है बल्कि यह हमारी एक अच्छी जीवन शैली भी बनाता है। कभी भी बुरे लोगों के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश न करें और हमेशा अपने अध्ययन जीवन पर ध्यान दें।

कोविड -19 के दौरान स्कूल में छात्रों के सामने आने वाली चुनौतियाँ

जब महामारी कोविड -19 आई तो पूरी दुनिया इस वायरस से पीड़ित हो गई और कई लोगों की बीमारी से मौत हो गई। इसने छात्रों के जीवन पर भी कई बुरे प्रभाव डाले थे क्योंकि कोविड -19 के कारण अनिश्चित अवधि के लिए कक्षाएं बंद कर दी गई थीं। जहां छात्र अध्ययन से नहीं जुड़े थे और कई छात्र बीमारियों से प्रभावित थे। ऐसे में कई समस्याएं पैदा होता था स्कूल और कॉलेज की जीवन शैली मैं.

कॉलेज लाइफ में बदलते हैं विचार

हर कोई स्कूल के जीवन में एक क्लास से दसरे क्लास चला जाता था और पत्ता भी नहीं चलता था पर इसी जब हम 15 साल के हो जाते थे तो हमारा स्कूल लाइफ भी अंत होता था। तब हम मानसिक और शारीरिक रूप से पूरी तरह से विकसित हो चुके थे और थोड़ा परिपक्व स्वभाव था कि अब जब हम कॉलेज आएंगे, तो हम निश्चित रूप से थोड़े बड़े हो गए है।

न जाने कितने सपने और लक्ष्य हम कॉलेज की कक्षाओं में पैर रखते हैं, कोई अपनी पढ़ाई को लेकर गंभीर हुआ करता था तो कोई नवागंतुक लड़के-लड़कियां को लेकर.

कॉलेज लाइफ में मुश्किलों का सामना

स्कूली जीवन और कॉलेज जीवन में अंतर यह है कि जो शिक्षक हमें पढ़ा रहे होते हैं, उन्होंने हमारी पढ़ाई पर कोई दबाव नहीं डालते हैं, वे बस आए और पढ़ाते और चले जाते थे, वे हमसे यह नहीं पुछते नहीं थे कि हमने अपना होमवर्क किया या नहीं, ना कोई ध्यान ना कोई सज़ा शिक्षक का.

लेकिन कॉलेज के इस माहौल में अभ्यस्त होने में समय लगता है, हमें अच्छे दोस्त बनाने का मौका मिलता है और कुछ बेवकूफ दोस्तों के बीच भी हमारी लड़ाई होती है।

कॉलेज में अपनी भावनाओं को कैसे नियंत्रित करें

जब हमने कॉलेज जीवन में प्रवेश किया तो अचानक हमारे मन और प्रकृति में कॉलेज के नए माहौल के साथ धीरे-धीरे बदलाव आ रहा है और यह सभी के लिए बहुत आम है। नए लड़कों और लड़कियों के साथ कॉलेज में हमें अनियंत्रित करना बहुत आसान है और यह हमें हमारे अध्ययन से भी हटा देता है.

ताकि हमारी जिम्मेदारियों को बेहतर तरीके से जान सकें और हम कॉलेज क्यों जा रहे हैं और हमारा फोकस क्या है, अगर आप इसे हमेशा याद रखने की कोशिश करते हैं तो आपके दिमाग को अवांछित चीजों की ओर मोड़ने की संभावना कम होती है.

कॉलेज में कठिनाइयों का सामना कैसे करें

कॉलेज लाइफस्टाइल में कई छात्रों को एक साथ पढ़ने का मौका मिलता है लेकिन कुछ छात्रों का व्यवहार अच्छा नहीं होता है जो हमारे अध्ययन को भी प्रभावित करता है। उस स्थिति में, हमें अपनी पढ़ाई पर ध्यान देना होगा और खुद को बेवकूफी भरी बातों में शामिल करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और बुरे लोगों से बातचीत नहीं करनी चाहिए।

अगर गलती से कुछ होता है तो यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपने शिक्षक के साथ साझा करें और खुद को व्यक्तिगत रूप से शामिल करने का प्रयास न करें

शिक्षकों और छात्रों के बीच अच्छे संबंध बनाएं

हमारा कॉलेज जीवन अच्छा होगा जब हम शिक्षकों और छात्रों के बीच एक अच्छा बंधन बनाने में सक्षम होंगे। सभी के प्रति आकर्षित होने का सबसे आसान तरीका है अध्ययन में, व्यवहार में अच्छा होना और सभी का सम्मान करने का प्रयास करना। ताकि आप शिक्षकों के साथ-साथ छात्रों का भी ध्यान आकर्षित कर सकें।

अगर आपको शिक्षकों की मदद करने का मौका मिलता है तो आपको उनकी मदद करनी चाहिए और जब आपका कोई दोस्त समस्या का सामना कर रहा हो तो उन्हें उस स्थिति से बाहर निकालने का प्रयास करें। ये छोटी-छोटी चीजें हैं जो आपके आस-पास एक अच्छा माहौल बनाती हैं और आपके दिन को हर दिन अच्छा बनाती हैं।

एक अच्छा फ्रेंड सर्कल बनाएं

हमने कई बार सुना है कि अगर आपके 5 दोस्त अच्छे हैं तो आप भविष्य में अच्छे होंगे। इसलिए अच्छे दोस्त बनाना और दोस्ती का घेरा बनाना महत्वपूर्ण है ताकि आप सभी के बीच एक अच्छे छात्र के रूप में आपका नाम हो.

कॉलेज लाइफ में ब्रेकअप स्थितियों से निपटना

समय के साथ हम मानसिक और शारीरिक रूप से युवा हो जाते हैं, और किसी के द्वारा पसंद किया जाना या किसी को पसंद करना बहुत आम है, कॉलेज में हमें अच्छे दोस्त बनाने और किसी से जुड़ने का मौका मिलता है। इसे प्यार और स्नेह के रूप मैं जाना जाता है. और यह छात्रों में आम है।

लेकिन कभी-कभी हम किसी से गहराई से जुड़ जाते हैं और उनसे दूर नहीं हो पाते हैं, वास्तविक समस्याएं उत्पन्न होती हैं। हम अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते हैं, हम अपने निजी जीवन के कारण अपने दोस्तों से बचना शुरू कर देते हैं, अगर आपके और आपके साथी के बीच कोई गड़बड़ी हो रही है तो यह आपके लिए सबसे खराब स्थिति होगी।

आप न केवल अपने अध्ययन पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं बल्कि हो सकता है कि आप इस मामले में खुद को नष्ट कर लें। ऐसे में अपने दिमाग को शांत रखने की कोशिश करें। अपनी समस्याओं को अपने सबसे अच्छे दोस्तों के साथ साझा करें और किसी भी बुरी आदत का शौक न सुरु करदे. यह समस्याओं का समाधान नहीं है और आप किसी ऐसे व्यक्ति के लिए अपना जीवन नष्ट नहीं कर सकते जो आपकी भावनाओं को नहीं समझ सकता। अपने माता-पिता के बारे में, अपने भाई-बहनों के बारे में सोचें और ऐसे कदम उठाएं जो न केवल आपको बल्कि उन्हें भी खुश रखें।

कॉलेज की पढ़ाई के दौरान तय करें अपना लक्ष्य

यह आपके लिए अच्छा होगा जब आप अपने भविष्य के लिए एक लक्ष्य चुनेंगे और अपने अध्ययन के बाद इसे प्राप्त करने की योजना बनाएंगे, तो आपका दिमाग नियंत्रण में होगा और आप खुद को अन्य बुरा गतिविधियों में शामिल नहीं कर पाएंगे।

अपने अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करें और अच्छे प्रतिशत प्राप्त करें

अपने अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करें, और परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करें, तो आपका कॉलेज जीवन खुशियों से भरा होगा और आपके लायक होगा। बस यह समझ लें कि अच्छे प्रतिशत के साथ आपका कॉलेज करियर आपको आपके लक्ष्य के करीब ले जा सकता है।

इसलिए अपने अध्ययन पर ध्यान दें और एक अच्छा प्रतिशत और एक अच्छी डिग्री प्राप्त करें, क्योंकि जब आपको अच्छा जीवन मिलेगा तो आपको अपने जीवन में एक अच्छा साथी अवश्य मिलेगा इसमें कोई शक नहीं है.

आज हमने स्कूल और कॉलेज की जीवन शैली उन विचारों और समस्याओं पर चर्चा की है जिनका हमने सामना किया और उनको सामना करना पड़ेगा जो स्कूल या कॉलेज जाने वाले होंगे. हम आशा करते हैं कि यह आपको मामले को सुलझाने में मदद करेगा, यदि आप इस प्रकार के लेख प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारी साइट Biowikivilla.in पर जाएँ. अपना कीमती समय देकर इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, खुश रहें और स्वस्थ रहें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!