Biowikivilla.In

Biowikivilla.in

मन को शांत कैसे करें, मन शांत क्यों नहीं रहता है?

Spread the love

मन को शांत कैसे करें

हर एक इंसान के जिंदगी में दुख कभी न कभी आता है, मन को शांत कैसे करें ये हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है, पर हम ज्यादा तर सुख को अच्छे से जीते हैं और दुख में टूट जाते हैं पर ये नहीं समझ पाते की दुख भी हमारे जिंदगी का एक अंश होता हे। लगातर दुख का सामना करने के बाद हम और भी टूट जाते हैं और हमारे मन को शांत नहीं रख पाते जहां हम और भी मानसिक और सारेरिक रूप से कामजोर हो जाते हैं।

आज मैं आपको ऐसे कुछ बात बोलूंगा , जिसको आप अगर अपने जिंदगी मैं इस्तमाल करेंगे तो अपने मन को शांत रख पाएंगे बाल्की जिंदगी मैं बहुत आगे जा पाओगे और अपना लक्ष्य को हासिल कर पाओगे।

आज हम चर्चा करेंगे मन को शांत कैसे करें, मन को शांत करने का योग, मन को कैसे खुश रखे, मन को भटकने से रोकने के उपाय, मन को एकाग्र कैसे करे हम सभी चीजों के बारे में स्पष्ट रूप से चर्चा करेंगे।

तो चलो कुछ महात्यपूर्णा बात को जाने और हमारे दिमाग को शांत रखना सिखे |

दिमाग को फ्रेश कैसे करें,अगर मन अशांत हो तो क्या करना चाहिए?

दुनिया मैं बहुत सारे लोग होते हैं और हर किसका सोचने का तारिका अलग होता है। सबका काम करने का अंदाज भी अलग होता है। वेसे ही आपका काम करने का अंदाज अलग ही होगा | हर किसका स्वभाव, चल चलन अलग है, इसमे कोई अलग बात नहीं है, वेसे ही आप भी अलग हो आपका बात चित और आपका चलन दुसरो से अलग होता है।

इसिलिए कोई एक जैसा नहीं होता है। यहां से हमें ये सिख मिलता है की भल्ले ही कोई अपने काम को आराम से कर देता है पर हमको अपना काम अपने तारिको से करना होगा। इस्लिये अपने आपको समझो और अपने हिसाब से काम करो ना की दुसरो को फॉलो करो | मन को शांत कैसे करें ये बात खुदो पता होना चाहिए।

मन शांत क्यों नहीं रहता है, मन को भटकने से रोकने के उपाय,

मन हर बार हमारे परिवेश और उसके सामान्य के अनुसार उतार-चढ़ाव करता है। हर बार हमारा दिमाग ऐसे हार्मोन का उत्पादन करता है जो हमारे दिमाग को हर उस चीज़ के लिए अधिक आकर्षक बनाते हैं जो हमें अच्छी लगती है। आज हम मन में अशांति से बचने के कई मुख्य कारणों पर चर्चा करने जा रहे हैं।

गलत आदत और दोस्तों से दूर रहे.

हम सबको पता है की गलत संगत का असर हममेसा गलत ही होता है। इसिलिए बुरे लोग और बुरे परिस्थित से अपने आपको दूर रखिए। क्यों की एक अच्छा इंसान अगर दो बुरे इंसान के बिच्छ रहता है तो वो भी बुरा ही बन जाएगा,

उसमे कुछ बड़े बात नहीं है। अच्छे लोगों का साथ उनका स्वभाव बयाबहार हमको उनके जैसा बना देता है और हम भी कभी ना कभी उनके जैसा हो जाता है।

मन शांत क्यों नहीं रहता है?

हर कोई एक बार मैं सफल नहीं बन जाता, क्यों की दुनिया मैं कुछ भी आसान नहीं होता। हमें कठोर परिश्रम करना पड़ता है, दिन रात एक करके काम करना पड़ता है तब हम अपने लक्ष्य को हासिल कर लेते हैं,

पर कुछ लोग इतना काम चोर होते हैं की उनसे काम करना नहीं होता, वो खुद कुछ नहीं कर पाते हैं और डुसरो के लिए रुकावत सुरु करदेते हैं सबको कहते रहते हैं की दुनिया मैं सब कुछ नसीब के आधार पर मिलता है, परिश्रम नाम का कुछ नहीं होता |

यही बात अगर कोई सुन लेता है तो वो और भी टूट जाता है, इसिलिए ऐसे लोग के बात को अनदेखा करें और अपने काम के ऊपर भरोसा रखे, दुनिया में सब कुछ मिल सकता है, सिर्फ और सिर्फ अपने कठोर परिश्रम के बलबुदे पर।

इसिलिए मन मैं सकारातमक सोच रखे, भगवान के ऊपर भरोसा करे और अपना काम करते जाएंगे और देखे सफलता आपके कदम तक खुद वो खुद आएगा।

योगा और ध्यान करे.

दुनिया मैं हर कोई अपने जिंदगी मैं व्यस्त रहता है पर ऐसी तरह के जिंदगी मैं अगर खुद के बारे मैं नहीं सोचेंगे तो वो आगे चलकर हमें बहुत बड़े पेरिसियों का सामना करवाता है, और हम ना जाने कितने कितने बीमारियाँ का सामना करवाता है।

इसिलिये सुबा उठकर 15 से 30 मिनट ध्यान/योगा किया करे। क्यों की योगा ही एक मातृ रास्ता है जिसे हम अपने दिमाग को शांत रख सकते हैं और अपने बिचारों को केंद्रीयभूत कर सकते हैं। योगा से हमारी सरीरऔर दीमाग ठीक रहता है, एक स्वस्थ इंसान के अंदर एक स्वस्थ दिमाग का बास होता है।

इसे पढ़ें

अपने आप के ऊपर भरोसा करे.

जिंदगी मैं कुछ भी आसन नहीं है और कुछ भी मुश्किल नहीं है, सब कुछ हमारे काम के ऊपर निर्भार करता है। हर कोई इंसान अपने दुनिया का बादशाह माना जाता है क्यों की हमारे परिश्रम हममे हमारी मंजिल तक मिलाता है,

इसिलिए 99 प्रतिसत काम करे और बाकी के 1 प्रतिसत भगवान के ऊपर छोड़ दे और देखो केसे हर एक नामुमकिन मुमकिन होता है | मन को शांत कैसे करना चाहिए यह समस्या आप तक ही सीमित रहनी चाहिए और इसके लिए आपको किसी और पर निर्भर नहीं रहना चाहिए।

जलदबाज़ी मैं फैसला न ले.

हर परिसानिया का समाधान होता है, इसिलिए कभी भी जलदबाजी मैं कुछ भी फैसला नहीं ले। कहते हैं ना जल्दी का काम शैतान का होता है पर हम तो एक इंसान है | जलदबाजी में लिया हुआ हर फैसला हरवक्त गलत ही होता है। क्यों की जल्दी का काम शैतान का होता है। सोच समझ कर फेलसा ले।

दिमाग को काबु मैं करे.

हर समस्या का समाधान होता है बस अपने दिमाग को शांत करके अपने बड़ो का सलाह ले और हमें काम को करते जाए। हर कोई समय आपसे इतना बड़ा भी नहीं होता जिस्का आप समाधान ना कर पाओ।

मन को कैसे खुश रखे.

आप वह सब कुछ करते हैं जिससे आपको खुशी मिलती है। जुनून के पीछे रहो। क्योंकि आप एक ही काम को कितनी बार भी कर लें, आपको कभी भी बोरियत महसूस नहीं होगी क्योंकि उस काम को करने में आपको खुशी महसूस होती है।

इसलिए अक्सर उस रास्ते का अनुसरण करें जहां आपका दिल खुश हो। एक संतुष्ट व्यक्ति अकेले ही लंबी यात्रा पर चल सकता है। मन को कैसे खुश रखे ये आपके हाथ में होता है।

मन को भटकने से रोकने के उपाय.

हमारा दिल और दिमाग अलग तरह से काम करता है। दिल सिर्फ आकर्षक चीजों को पसंद करता है लेकिन दिमाग सिर्फ उन्हीं चीजों को चुनता है जो हमारे जीवन में कोई मूल्य रखेगी। इसलिए कुछ भी चुनने के लिए भ्रमित न हों। निर्णय दिल से नहीं दिमाग से लें।

अपना लक्ष्य स्थिर करे.

जिंदगी मैं कुछ भी हासिल करने के लिए एक खुदका लक्ष्य होना चाहिए, क्यों की कहते हैं ना बिना लक्ष्य के एक इंसान रास्ते मैं कितना दूर जा सकता हे अगर उसे खुदका मंजिल के बारे में बिलखुल पत्ता ना हो | इसिलिए समय रहते ही अपना लक्ष्य स्थिर करले |

कठोर परिश्रम करना सिखे.

एक इंसान अपने कर्मों के अनुभव फल पता है, क्यों की हमारे काम ही हमें जिंदा रखता है या फिर रास्ते का भिखारी बना देता है। कड़ी मेहनत और निरंतर प्रयास से सब कुछ संभव है। इसलिए कभी भी अपने भाग्य के लिए दोषी महसूस न करें,

आपकी मेहनत के कारण ही सब कुछ संभव है। आपकी 90 प्रतिशत मेहनत और भगवान का 1 प्रतिशत आशीर्वाद आपको अद्वितीय बनाता है और आपको अपने लक्ष्य का मालिक बनाता है |

अपने आप को ब्‍यास्‍त रखें.

मन को शांत कैसे करें? इस्के लिए आपको अपने काम में व्यस्त रहना होगा. ज़िंदगी मैं सफलता मिलना आसान नहीं होता अगर आप सही समय पर सही कदम ना लो तोह, असफलता और सफलता हमारे जीवन का हिस्सा है,

हमें अपने लक्ष्य को मजबूत बनाना चाहिए ताकि हम अपने लक्ष्य पर लगातार ध्यान केंद्रित कर सकें, कड़ी मेहनत तब तक करें जब तक आप अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर लेते। इसलिए अपने आप को काम में व्यस्त रखें और जब तक आपको लक्ष्य न मिल जाए |

धनबाद अपने किमती समय हमें देने केलिए, परिश्रम करते रहे और आगे बढ़ते रहे |

Leave a Comment

error: Content is protected !!