Biowikivilla.In

Biowikivilla.in

डर क्या है और क्यों होता है? What is fear and Why fear happens?

Spread the love

डर क्या है?

डर क्या है ? जब हम किसी चिज के ऊपर पाने की आस रख लेते हैं और हमें जब लगता है कि वही चिज हमारे कंट्रोल से बहार होता है,

और जिस्का हमें कभी उम्मीदें नहीं होती है, अगर वही चिज हमारे जीवन में आगे होने वाला है, उसके संबंधित जो विचार हमारे दिमाग में आता है उसे डर कहते हैं। डर हमारे दिमाग में ऐसे विचार पैदा करता है जो हमें अपने लक्ष्य की ओर पीछे हटने के लिए मजबूर करते हैं।

डर कब आता है, भय कितने प्रकार के होते हैं ?

जब हम कुछ काम करते हैं, उससे पहले हम वही काम के नतीजा को अपने दिमाग में बैठा लेते हैं, हम पहले से ही एक मानसिकता कर लेते हैं मुझे ये करने के बाद मुझे ये मिलेगा। पर कहीं न कहीं हम ये भी शक रहते हैं की अगर ये नहीं हुआ तो मुझे ये देखना पड़ेगा।

जो की हम कभी भी उम्मीद नहीं करते वो हमारे जीवन में हो और कभी भी कुछ काम करने के बाद अगर हम कुछ गलतिया हो भी जाते हैं तो हमें वही काम को लेकर एक डर बैठ जाता है। इसलिए किसी भी काम को पूरा करने के लिए हमें उस काम पर पूरा ध्यान देना चाहिए ताकि हमारे जीवन में कभी भी इस तरह का डर न रहे।

दिमाग का डर कैसे निकाले, मानसिक डर का इलाज ?

वैसे तो कोई डर नहीं होता, यह एक प्रकार का विचार होता है जो किसी काम को लेकर हमारे मन में आता है।अगर हम कुछ भी काम कभी करते हैं और उसके ऊपर पूरा ध्यान देते हैं तब हमें एक आश्वासन मिलता है कि सब काम ठीक से हुआ है।

और उसके सामने अगर कुछ काम अच्छे से नहीं करने से वही काम अधूरा रहता है और हमें काम को लेकर एक नकारात्मक विचार आता है। जिसे डर के नाम से जाना जाता है।

दिमाग से डर निकलने का एक मातृ उपाय है, हमेंअपने काम को महत्व देना होगा, हमें उनके मूल्यों को समझना होगा, हमें उनके फायदे और नुकसान को जानना चाहिए। ताकि हम कोई भी कार्य करने से पहले सतर्क रहें।इस विधि से हम अपने मन से भय को बाहर निकाल सकते हैं।

डर का क्या इलाज है, डर को भगाने का तरीका ?

डर का इलाज करने के लिए महत्वपूर्ण तरीकों में से एक यह है कि आप जो कर रहे हैं उस पर ध्यान केंद्रित करना है। अपनी सोच को सकारात्मक रखें और ईश्वर पर विश्वास करें। अपनी सोच को सीमित रखें और व्यावहारिक जीवन में जिएं।

हमें क्या करना चाहिए जब डर आता है?

अपने अंदर के डर को जीतो ,जब हम अपने ज्ञान की कमी और समय की कमी के कारण कुछ करने में असफल हो जाते हैं डर तभी आता है। डर का सामना करने के लिए हमें उस कार्य के बारे में ज्ञान प्राप्त करना चाहिए जिसे हम पूरा करना चाहते हैं। क्यूं की कभी कभी थोड़ा ज्ञान होना बिना ज्ञान होने से ज्यादा खतरनाक होता है। इसिलिए उचित ज्ञान का संग्रह करे और काम को पूरा करे।

बुरे काम करने की कोशिश मत करो।

डर क्यों लगता है, हम सभी जानते हैं कि बुरे कार्य हमें बुरे परिणाम देते हैं जबकि अच्छे कार्य हमें अच्छा परिणाम देते हैं। इसलिए अपने जीवन में बुरे कामों से बचना महत्वपूर्ण है ताकि आपकी गरिमा और आपकी छवि स्वच्छ और लंबे समय तक बनी रहे।

कभी कभी बुरे काम से हमें ज्यादा फायदे मिलता है पर हम भूल जाते हैं की ये भविष्य में बहुत सारे समस्याएं का सामना करवाएगा। इसलिए इस तरह के काम करने से खुद को दूर रखें।

इसे पढ़ें

डर आने पर क्या नहीं करना चाहिए?

ऐसी कई चीजें हैं जिनसे हम मुख्य रूप से बचते हैं जब हम किसी कठिनाई का सामना कर रहे होते हैं। जब हम किसी डर का सामना कर रहे हों तो हमें घबराना नहीं चाहिए।

घबराए हुए व्यक्ति के पास कोई अच्छा समाधान नहीं होगा क्योंकि वे किसी भी डर को देखते ही अपना दिमाग मोड़ लेते हैं। इसलिए हमें घबराना नहीं चाहिए बल्कि स्थिति को समझना चाहिए और तय करना चाहिए कि प्रतिक्रिया करनी है या नहीं।

डर के पीछे का कारण खोजें।

भय कई प्रकार का होता है जैसे जब किसी व्यक्ति के पास पर्याप्त ज्ञान नहीं होता है जब उसके पास भय होता है, जब हमें कुछ भी करने में कोई दिलचस्पी नहीं होती है जब हमें डर का सामना करना पड़ता है, जब हम अपने करीबी को खोने वाले होते हैं तो हमारा सामना होता है डर से। इसलिए डर का कारण क्या है डर के सही कारण का पता लगाएं तभी आप इस स्थिति से बाहर निकलेंगे।

डर का सामना करो?

जब हम डर का सामना नहीं करेंगे तो यह हमें और अधिक भयभीत कर देता है। इसलिए डर का सामना करना बेहतर है, हो सकता है कि आप बहुत अजीब, भयानक महसूस कर रहे हों, लेकिन जब आप इसका सामना करेंगे तो आपको तुरंत विचार मिलेगा,

आपको उस स्थिति का एहसास होगा जब डर हो रहा है और निश्चित रूप से आप इससे बाहर आने के उपाय खोज लेंगे। इसलिए खुद को डर से दूर रखने के बजाय डर का सामना करें।

आपको कब डरना चाहिए?

कभी डरना भी अच्छा होता है, क्यों की हम जब हमारी लिमिट को क्रॉस करके कुछ अनहोनी करने जा रहे हैं तब हमें डर लगने लगता है। और तबी दार लगना आम बात है। तब हमें परिणामों का एहसास होता है कि लाभ और हानि क्या होगी? और हम खुदको रोक लेते हैं कुछ भी अनहोनी सा काम करने से पहले।

अपने भविष्य के बारे में ज्यादा मत सोचो?

भविष्य सीधे आपके वर्तमान पर निर्भर करता है और यदि आप वर्तमान समय में सर्वश्रेष्ठ कर रहे हैं तो निश्चित रूप से आपका भविष्य बेहतर होगा, इसमें कोई संदेह नहीं है।

इसलिए अपने भविष्य के बारे में सोचकर डरने के बजाय अपनी प्रस्तुति पर ध्यान देना बेहतर है और आज अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास करें और भविष्य अपने आप बेहतर हो जाएगा।

वास्तविक समस्याओं को समझें।

प्रत्येक स्थिति अपने साथ अवसर और कठिनाइयाँ लेकर आती है। इसलिए स्थिति के हर पहलू को समझने की कोशिश करें और फिर प्रतिक्रिया दें। तब आप एक अच्छे आदमी बनोगे।

किसी भी प्रकार का नसा का सेबन ना करे।।

कभी-कभी जब हम किसी भी स्थिति में पड़ जाते हैं तो गलती से हम शराब, धूम्रपान जैसी बुरी आदतों के आदी हो जाते हैं। यह किसी भी स्थिति का सटीक समाधान नहीं है।

हो सकता है कि यह आपको तुरंत राहत दे लेकिन भविष्य में यह आपको बड़ी समस्याओं की ओर ले जाएगा। इसलिए इस प्रकार की आदतों से अपने आप को दूर करे ।

दिमाग को सकारात्मक बनाओ।

हर स्थिति समस्याओं और समाधानों के साथ आती है। इसलिए हमें समस्याओं का सामना करने के बजाय समाधान खोजने का प्रयास करना चाहिए। यह सब सिर्फ भगवान में विश्वास करने से संभव है। ताकि हमारी मानसिक शांति शांत हो जाए और हम हर स्थिति को बेहतर तरीके से संभाल सकें।

अपनी इच्छाओं को सीमा के भीतर रखें।

हम अपने भाग्य के निर्माता स्वयं हैं और सब कुछ हमारे कार्यों से जुड़ा है। इसलिए हमें यह सोचना चाहिए कि बिना किसी का सहयोग लिए हम क्या हासिल कर सकते हैं। इसलिए हमें उन चीजों के सपने देखने के बजाय वास्तविकता में जीना चाहिए जो जीवन में हमारे लक्ष्यों से संबंधित हैं।

हमें उम्मीद है कि हमारा लेख डर क्या है और क्यों होता है ? डर क्यों लगता है, डर का कारण क्या है , भय की परिभाषा, डर को भगाने का तरीका आपको डर से निपटने में मदद करेगा और जब आप किसी डर का सामना कर रहे हों तो कैसे प्रतिक्रिया दें। डर को कैसे दूर किया जाए, आपके लिए सब कुछ आसान हो जाएगा, हम आशा करते हैं।

हमारे लेख डर क्या है और क्यों होता है को पढ़ने के लिए अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद, सुरक्षित रहें, खुश रहें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!